Header Ads

जॉइंट मजिस्ट्रेट महेंद्र सिंह तवंर ने पकड़े हाइवे के लुटेरे

एटा


नेशनल हाइवे 91 पर दिन दहाड़े लूटा जा रहा था जवाहर तापीय विद्युत परियोजना का करोड़ो रूपये का सरिया।

एटा के तेज तर्रार आई ए एस अधिकारी जॉइंट मजिस्ट्रेट/एस डी एम सदर एटा महेंद्र सिंह तंवर ने एटा में बन रही प्रदेश की सबसे अधिक क्षमता की जवाहर तापीय विद्युत परियोजना मे मिली भगत से चल रहा करोड़ो रूपये की सरिया लूटने के गैंग का खुलासा किया।

सटीक सूचना और पक्का होमवर्क के साथ सरकारी गाडी दूर छोड़कर बाइक पर सवार होकर साधारण आम आदमी की तरह अचानक छापा मार कर किया सरिया लूट गैंग का पर्दाफाश।

लूट के इस खेल में जवाहर तापीय विद्युत परियोजना का निर्माण कर रही दूसान कंपनी के बड़े अधिकारी भी शामिल होने की पूरी सम्भावना। कई अधिकारी हो सकते हैं बेनकाब।


एटा जिले में बन रही प्रदेश सरकार की सबसे बड़ी विद्युत परियोजना जवाहर तापीय विद्युत परियोजना के लिए कर्नाटक के बेल्लारी से आने वाला लोहे का सरिया परियोजना में पहुचने से पहले ही एक बड़े गैंग द्वारा एटा के नेशनल हाइवे 91 पर  लूटे जाने का खुलासा आज एटा के जॉइंट मजिस्ट्रेट महेंद्र सिंह तंवर ने किया है। अभी तक 16 ऐसे ट्रॉला को पकड़ा गया है जिनसे सरिया की लूट हो रही थी। 6 लोगो को पुलिस ने इस मामले में हिरासत में लिया है। जबकि इसका सरगना और कुछ सदस्य भाग जाने में सफल हो गए ।

एटा के जॉइंट मजिस्ट्रेट और एस डी एम सदर महेंद्र सिंह तंवर आई ए एस ने नेशनल हाइवे 91 पर गोपनीय तरीके से छापा मारकर एटा में बन रही 10 हजार करोड़ रुपये से अधिक की लागत की 1320 मेगावाट  की जवाहर तापीय विद्युत परियोजना के लिए बेल्लारी कर्नाटक से आने वाली सरिया के ट्रकों से रास्ते मे जबरन रोककर उनमे से सरिया लूटने वाले गैंग को पकड़ा है। मुनीम तरुण और नाजिम और गोदाम का मालिक राजेन्द्र और मामले का सरगना विकास नागर फरार हो गया हैं । इस मामले में करोडो रुपये की सरिया की चोरी का खुलासा हुआ है। ड्राइवर सुबोध ने बताया कि इस तरह के हजारों ट्रक सरिया आता था जिनसे सरिया जबरन लूटी जाती थी। उसने ये भी बताया कि इसके एवज में उसको भी रुपये मिलते थे, एक कुंतल  सरिया पर 1000 रुपये, 4 कुंतल सरिया पर 4000 रुपये और 2 टन पर 10 हजार रुपये देते थे। उसने बताया कि इस गैंग में 5-7 लोग कार से चलते है और जबरन ट्रक रोककर सरिया लूटते हैं। एक ट्रक से 2 टन तक सरिया जबरन रास्ते मे बने गोदाम में उतार ली जाती हैं।

ड्राइवर रामू ने बताया कि हमारी मार पीट कर जबरन हमसे इस गोदाम में सरिया उतार ली जाती हैं । इसका काम नाजिम मुनीम देखता हैं।

इस सरिया लूट गैंग में एटा में जवाहर तापीय विद्युत परियोजना के कई अधिकारी भी शामिल है जिनकी मिली भगत से इस पूरे गैंग द्वारा करोड़ो रूपये की सरिया की लूट को अंजाम दिया जाता हैं। जब इस बाबत दूसान कंपनी के मटेरियल इंचार्ज शुशांत मुखर्जी से बात की गई तो वे कैमरे के सामने से भागने लगे। इधर उधर घुमाकर बात टालने लगे।उन्होंने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया।

इस पूरे मामले में छापा मार कार्यवाही करने वाले जॉइंट मजिस्ट्रेट महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि सूचना मिली थी कि जवाहर तापीय विद्युत परियोजना में कर्नाटक के बेल्लारी से आने वाले सरिया को बाबा का ढाबा के पास गोदाम में एक गैंग के माध्यम से ट्रॉला से ट्रेक्टर से एक एक करके सरिया निकाला जाता है और फिर साई धर्म काटे पर वेट कराकर उसमे गड़बड़ी कर जवाहर तापीय विद्युत परियोजना में भेजते थे। इस तरह से ये बड़ी कालाबाजारी की जा रही थी । इस मामले में कडी से कडी कार्यवाही की जाएगी। इस गैंग के पीछे और भी जो लोग है उनको ढूंढा जाएगा।

आइये अब समझते है कि सरिया चोरी का ये रैकेट कैसे काम करता हैं-----

कर्नाटक के बेल्लारी से जे एस डब्लू कंपनी का ये सरिया गाजियाबाद तक मालगाडी से आता है। उसके बाद गाजियाबाद रेल यार्ड से ट्रॉला के जरिये ये सरिया एटा जवाहर तापीय विद्युत परियोजना में आता है। जवाहर तापीय विद्युत परियोजना बनाने वाली जापान की कंपनी दूसान के अधिकारियों की मिली भगत से ये गैंग रास्ते मे ही इन ट्रॉला मे से एक गोदाम में ट्रॉला को खड़ा कर सरिया निकाल लेते हैं ।उसके बाद इसके साई धर्म कांटा में बजन करने को भेजा जाता है उसकी मिली भगत से सरिया का वजन उतना ही दिखा दिया जाता है जितना बिल्टी में दर्ज है और ऐसे में निर्धारित मात्रा से कम सरिया को परियोजना में पूरी मात्रा कागजो में चढ़ाकर एंट्री कर दी जाती है। इसी तरह से हजारों ट्रकों में आने वाले सरिया की लूट और चोरी का खेल माफिया के द्वारा खेला जाता हैं ।
इस पूरे खेल के लिए जिम्मेदार दूसान कंपनी के मटेरियल इंचार्ज शुशांत मुखर्जी से जब जानने की कोशिश की गई तो वे मीडिया के कैमरे देख निरुत्तर होकर भाग खड़े हुए। मीडिया द्वारा पीछा करने पर वे लगभग 500 मीटर तक भाग खड़े हुए। गंभीर बात ये भी है कि इस प्रकरण में दूसान कंपनी के अधिकारी शुशांत मुखर्जी,जे ई सुरेंद्र और एग्जीक्यूटिव इंजीनियर कुमार गौरव आदि की भूमिका भी संदिग्ध मानी जा रही हैं । इस मामले में ताजा जानकारी के अनुसार कोतवाली देहात में अभी एफ आई आर लिखे जाने की प्रक्रिया जारी हैं ।
एटा के जिला अधिकारी आई पी पांडेय ने भी एटा के बड़े सरकारी प्रोजेक्ट जवाहर  तापीय विद्युत परियोजना से इस प्रकार गैंग द्वारा सरिया लूटने की घटना को गंभीरता से लिया है और इस गैंग के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने की बात कही हैं । इस मामले में एक जांच टीम का भी गठन किया गया है जो इस प्रकरण के विभिन्न पहलुओं की जांच करेगी।


रिपोर्ट:अनुज प्रताप सिंह

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.