Header Ads

यूपी के एटा में स्वास्थ्य सेवाएं भी बेंटिलेटर पर,एटा प्रशासन ने हर बार की तरह जांच के मकडजाल में उलझाकर रख दिया प्रसूता का प्रकरण,कार्यवाही के नाम पर अभी तक मिला जांच का झुनझुना,

अभी तक सिर्फ दो नर्सो की वेतन वृद्धि अगले आदेश तक रोकी गई और डॉक्टर और नर्सो को चेतावनी दी गई।
प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने डी एम को सौंपी जांच रिपोर्ट
जिला अधिकारी ने ए डी एम (ई )और एक डॉक्टर की बनाई जांच कमेटी
एटा जिला महिला अस्पताल द्वारा कल प्रसूता रिजवाना को अस्पताल से उसके दो बच्चों के प्रसव के बाद भगाने,खून की अत्यधिक कमी होने पर भी खून न चढ़ाने  और प्रसूता के बेहोशी की हालत में तड़पते हुए मेहता पार्क में दोनों नवजात शिशुओं के साथ लाबारिश हालत में मिलने के मामले में जिला अधिकारी एटा आई पी पांडेय द्वारा प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी राम सिंह से कराई गई जांच की रिपोर्ट जिला अधिकारी को सौंपी गई। जांच रिपोर्ट में महिला डॉक्टर और नर्स की लापरवाही का जिक्र। जिला अधिकारी की संसृति पर शाशन से हो सकती है लापरवाह डॉक्टर और स्टाफ के खिलाफ बड़ी कार्यवाही।
इस घटना के बाद एटा के महिला चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ प्रदीप कुमार ने   अस्पताल की व्यवस्था बदलते हुए दो महिला डॉक्टर ओ पी डी में और एक डॉक्टर को लेबर रूम में तैनात करने के निर्देश दिए। साथ ही किसी भी प्रसूता को क्रिटिकल कंडीसन में या समय से पूर्व डिस्चार्ज करने पर सी एम एस या सी एम ओ को अवगत कराना अनिवार्य किया गया जिससे उसकी आवश्यकता पड़ने काउंसिलिंग की जा सके। साथ ही दो दो स्टाफ नर्सों की ड्यूटी तीनो पाली में लगाये जाने की व्यवस्था की गई। कल के मामले में लापरवाही बरतने पर ड्यूटी पर तैनात दो स्टाफ नर्सों रीता ए लाल और एवलिन मैसी की अग्रिम आदेश तक वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश महिला अस्पताल के अधीक्षक डॉ0 प्रदीप कुमार द्वारा दिए गए और लिखित रूप में डॉक्टरों और नर्सो को चेतावनी भी दी गई। जांच में पाया गया कि प्रसूता रिजवाना को उसकी सौतेली सास फरजाना अपनी जिम्मेदारी पर लिखित में ले गई थी। पहले प्रसूता को आगरा रेफर किया गया था और बाद में उसके ब्लड कम होने पर ब्लड लाने को कहा गया था जिसका इंतजाम वो नही कर पाई। वर्तमान में प्रसूता रिजवाना का इलाज आगरा मेडिकल कॉलेज में चल रहा है जहां प्रसूता की हालत नाजुक बनी हुई है।
रिपोर्ट-राकेश प्रताप सिंह

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.