Header Ads

एटा में नही थम रहा सटोरियों का कारोबार,मुखविर की सूचना पर दो चढ़े पुलिस के हत्थे

एटा-
अलीगंज में कैंसर की तरह फैल रहे सट्टे का कारोबार रुकने का नाम नहीं ले रहा है। पुलिस द्वारा लगभग आधा दर्जन सटोरियों को जेल भेजने के बाद यह कारोबार फल-फूल रहा है। सट्टे के खेल में अभी तक कई परिवार सड़क पर भी आ चुके हैं और बर्बाद हो चुके हैं, लेकिन इस कारोबार में लगे लोग मौज ले रहे हैं।
विदित हो कि उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद सट्टे का कारोबार पूर्णतरू बंद हो गया था, लेकिन कुछ माह बाद से ही यह कारोबार खुलेआम चलने लगा। पुलिस द्वारा इस कारोबार में संलिप्त कई लोगों को जेल भी भेज चुकी है। लगभग एक माह पूर्व सोशल मीडिया पर सट्टे के कारोबार की खबर प्रकाशित होने के बाद पुलिस ने तत्काल कार्यवाही करते हुए दो सटोरियों को जेल भेजकर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली, इसके बाद भी यह कारोबार खुलेआम आज भी संचालित हो रहा है।
गुरुवार को एसएसआई मदन मुरारी द्विवेदी को गश्त के दौरान सूचना मिली कि मोहल्ला रामप्रसाद गौड़ में दो लोग सट्टे का कारोबार कर रहे हैं। सूचना पर एसएसआई ने मय पुलिस बल के साथ उक्त स्थानों पर छापामार कार्यवाही की। यहां से सहरोज खान उर्फ मातिया पुत्र शमशुल इस्लाम खान एवं मोहम्मद हाशिम पुत्र अहमद मीर को गिरफ्तार कर लिया है। सटोरियों के कब्जे से 9200 रुपए, एक मोबाइल फोन बरामद किया है। आरोपियों को जेल भेज गया है।
मोबाइल से चल रहा था कारोबार
अलीगंज- वरिष्ठ उपनिरीक्षक एम.एम. द्विवेदी ने बताया कि यह सटोरिया बहुत ही शातिर हैं। यह दोनों आरोपी सट्टे के इस्तेमाल में अब कागज, कलम का उपयोग नहीं करते हैं। यह आरोपियों से पूछताछ में बताया कि वह पूरे कारोबार को मोबाइल पर ही करते हैं। फोन रिकार्डिंग सुबूत के तौर रहती है।
रिपोर्ट-अनन्त मिश्रा/अनुज प्रताप सिंह

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.