Header Ads

एसएसपी के पहुँचते ही पकड़ कर फफक-फफक कर रोने लगी महिलाएं,अपह्त बाबा-नाती के मिले शव,अपनों को ढूढने के लिए 2 हजार में मबेसी बेचकर पुलिस को दिये थे रुपये

एटा-जैथरा के गांव ढर्रा से गायब से बाबा-नाती के मिले शव।पिता और बेटे की तलाश कराने के लिए पीड़ित नेत्रपाल ने पुलिस को अपना पढ़रा बेचकर दिये थे दो हजार रुपये।उसके बाबजूद भी पुलिस ने बाबा-नाती के अपहरण होने के बाद भी नही दर्ज की रिपोर्ट, घुमशुदगी दर्ज कर कर दी थी छूट्टी,पुलिस की लापरवाही के चलते हत्यारो ने बाबा-नाती के शवों को खेत में फेंककर और पुआल में दबा दिये थे
परिजन नेत्रपाल ने बताया कि उसने अपने पिता शंकरलाल और बेटा चमन प्रकाश की तलाश के लिए जैथरा पुलिस को पढ़रा बेचकर दो हजार रुपये दिए थे,रुपये लेने के बाबजूद भी पुलिस ने अपहत बाबा-नाती को ढूढ़ने का कोई प्रयास नहीं किया,तहरीर लेने के बाद भी पुलिस ने किसी भी प्रकार की परिजनों से जानकारी नही की और पुलिस वक़्त रहते कार्यवाही करती तो बच सकती थी बाबा-नाती की जान,शव मिलने के बाद ग्रामीणों ने पुलिस को जमकर सुनाई खरीखोटी सुनाई,

एसएसपी अखिलेश चौरसिया के पहुँचते फफक-फफक रो पड़ी महिलायें,एसएसपी भी हुए भावुक
एटा।एसएसपी को पकड़ कर फफक-फफक कर रोने लगी महिलाएं उन्होने रोते हुए बताया कि पुलिस की अगर वक़्त रहते कार्यवाही करती तो बच सकती थी बाबा-नाती की जान,एसएसपी ने लापरवाहों पुलिस कर्मियों पर जांच के कार्यवाही करने बात कही
रिपोर्ट सुनील कुमार

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.