Header Ads

एटा मे पुलिस ने मुर्दायो को भी नही छोड़ा,लूट जैसी संगीन धाराओ मे मुर्दा सहित कई लोगो पर कसा शिकंजा

एटा-
लूटपाट की घटनाओं को अगर कोई मुर्दा अंजाम दे तो सुनकर हैरान मत हो क्योंकि ये सही है और एटा में मुर्दा लूटपाट कर रहा है। ये हम नहीं कह रहे बल्कि पुलिस कह रही है। रस्सी को सॉंप और सॉप को रस्सी बनाने में माहिर यूपी पुलिस का तो कोई सानी नहीं है। दरअसल दो साल पूर्व बिल्लू नाम के शख्श की तालाब में डूबकर मौत हो गयी थी और उसका मृत्यु प्रमाण पत्र भी है लेकिन एटा पुलिस उसे अभी भी जिंदा मान रही है और पुलिस की मानें तो मृतक बिल्लू अभी भी लूटपाट कर रहा है और उसके खिलाफ थाना अलीगंज पुलिस ने एफ आई आर भी दर्ज कर उसकी तलाश में जुटी हुयी है। 
वीओ-  लुटेरों की तलाश में पुलिस को दौड़ते तो देखा और सुना होगा लेकिन एटा की अलीगंज पुलिस एक लुटेरे मुर्दे की तलाश में दिन रात एक किए हुए है। जरा गौर से देखिये मृत्यु प्रमाण पर जिस शख्श की फोटो लगी है इसका नाम बिल्लू उर्फ रनवीर उर्फ नरवीर है जो तीनों एक ही शख्श के नाम है लेकिन अलीगंज पुलिस इसके खिलाफ एफ आई दर्ज कर इसे शातिर लुटेरा मानते हुए इसकी तलाश में जुटी है। आपको बताते है दरअसल ये पूरा मामला अलीगंज थाना क्षेत्र के कायमरोड स्थित पीड़ित जागन सिंह का है जिनकी कई बीघा जमीन इलाके के दबंग भूमाफियाओं ने पुलिस के साथ मिलकर मारपीट कर फर्जी बैनामा करा कर हड़प ली। थोड़ी सी बची जमीन को लेकर पीड़ित परिवार पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारियों से गुहार लगाता रहा लेकिन सपा सरकार में बेघर किए गये इन लोगों को थोड़ी आस बीजेपी सरकार से बची थी लेकिन उनकी ये आस भी टूट सी गयी है। पीड़ित परिवार जागन सिंह पुत्र मदारी के परिवार में कई हिस्सेदार है। प्लाट नंबर 2286 पर सरकारी नाला है जिसमें भूमाफियाओं ने अवैध कब्जा कर रखा है और उस पर निर्माण कार्य चल रहा है जिसका पीड़ित परिवार विरोध कर रहा था और डीएम से गुहार के बाद काम रुकवा दिया गया। पीड़ित परिवार को सबक सिखाने के लिए भूमाफियाओं ने पुलिस से मिलकर पीड़ित परिवार के कई महिलाओं समेत कुल 13 लोगों पर 26 जुलाई 2017 को रात्रि साढ़े बजे 392 का लूट का मुकदमा दर्ज करा दिया है जिसमें दो साल पूर्व मृतक बिल्लू उर्फ नरवीर उर्फ रनवीर का नाम है जो एक ही आदमी का नाम है और पुलिस ने एफ आई आर में बिल्लू उर्फ नरवीर के नाम से लिखी है। अलीगंज में भूमाफियाओं का कितना खौफ है ये पीड़ित परिवार से बेहतर कौन जान सकता है और पुलिस और भूमाफियाओं की मिलीभगत से दर्ज मामले के बाद पुलिस इनके खिलाफ गिरफ्तार की बात कह रही है जिसके चलते पीड़ित परिवार खौफजदा है। वहीं पुलिस के आला अधिकारी इस मामले में सफाई देते नजर आये।
बही मामला भू माफियाओ से जुड़ा होने के बजह से पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी कोई ठोस कार्यवाही नही कर पा रहे 
बही पीड़ित परिवार की माने तो अलीगंज कस्बे की अंदर चुंगी में गाटा संख्या 2285 में पीड़िता स्नेहलता पत्नी चंद्रप्रकाश ,बेबी पत्नी हरीसिंह का एक प्लाट है जिसका निकलने का रास्ता गाटा संख्या 2286 में जो सरकारी नाला है जिस पर भू माफियाओ ने अबैध तरीके से कब्जा कर जमीन को बेच दिया है ।विशाल गुप्ता जो कि जबरिया प्रशासन की मिली भगत के चलते सरकारी नाले पर अबैध तरीके से कब्जा कर रहा था ।जिसकी शिकायत पीड़ित पक्ष तमाम आलादिकारियो से की परन्तु कोई सुनवाई नही की गई ।उल्टा फटकार कर भगा दिया गया।जिसके चलते रास्ते के निर्माण को लेकर दोनों पक्ष में  विवाद हुआ  ।पीड़ित परिवार का आरोप है कि मुकेश उर्फ मुक्का जो अंतराष्ट्रीय वाहन चोर हिस्ट्रीशीटर भी है जिसकी नजर इस करोड़ो की जमीन पर हमेशा से रही है उसने जबरदस्ती पीड़ित परिवार को बंधक बना मारपीट कर शराब पिला  कर बैनामे करा लिए और ।बैनामे काम जमीन के करा कर सारी भूमि पर कब्जा कर करोड़ो सीधे कर लिए ।और अब भी इस भूमि पर निगाहें गढ़ाए हुआ है ।बही ऊंचा रसूख रखने के चलते प्रशासन के आलाधिकारी कोई भी कार्यवाही नही कर पाते ।अब पीड़ित परिबार ने शासन प्रसासन से न्याय की गुहार लगाई है 

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.