Header Ads

भारत के राष्ट्रपति पद के दावेदार राम नाथ कोविंद ने आई ए एस की नॉकरी की छोड़ राजनीति में शुरू किया नया करियर


बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होंगे। उनका राष्ट्रपति बनना तय माना जा रहा है!
कानपुर देहात की डेरापुर तहसील के गांव परौंख में 1945 में हुआ था रामनाथ कोविंद का जन्म और
उनकी प्रारंभिक शिक्षा संदलपुर ब्लाक के ग्राम खानपुर परिषदीय प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय हुई थी कानपुर नगर के बीएनएसडी इंटर के बाद डीएवी कॉलेज से बी कॉम व डीएवी लॉ कालेज से विधि स्नातक की पढ़ाई भी की और उसके बाद दिल्ली में रहकर तीसरे प्रयास के वाद के लिए उनका चयन हो गया। मुख्य सेवा के बजाय एलायड सेवा में चयन होने पर नौकरी ठुकरा दी। 
जून 1975 में आपातकाल के बाद उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय में वकालत भी की। वही 1977 में जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद रामनाथ कोविंद तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरार जी देसाई के निजी सचिव बने। इसके बाद वह भाजपा के संपर्क में आए। कोविंद को पार्टी ने वर्ष 1990 में घाटमपुर लोकसभा सीट से टिकट दिया लेकिन वह चुनाव हार गए। 
वर्ष 1993 व 1999 में पार्टी ने उन्हें प्रदेश से दो बार राज्यसभा में भेजा। पार्टी के लिए दलित चेहरा बन गये कोविंद अनुसूचित मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और प्रवक्ता भी रहे।
'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.