Header Ads

एटा सीसीटीवी की निगरानी गेंहूूं खरीद की नीलामी-डीएम,मण्डी मे अव्यवस्था मिलने पर सचिव को लगाई फटकार,बिजीलैंस जांच के आदेश

डीएम ने मण्डी का निरीक्षण कर लिया गेहूं खरीद का जायजा..
किसान हमारे अन्नदाता, गेहूं खरीद में किसानों का शोषण कतई बर्दाश्त नहीं होगा
एक केन्द्र बंद मिलने एवं अनुपस्थित रहने पर केन्द्र प्रभारी का वेतन रोकने के निर्देश
-
  
एटा। जिलाधिकारी विजय किरन आनन्द ने सोमवार का प्रातः अचानक मण्डी पहुंचकर गेहूं खरीद की स्थिति का जायजा लिया, डीएम द्वारा निरीक्षण के दौरान पाया कि मण्डी मंे दो सरकारी गेहूं क्रय केन्द्र हैं, जिसमे से एक केन्द्र बंद मिला, साथ केन्द्र प्रभारी भी अनुपस्थित पाये गये, जिस पर डीएम ने केन्द्र प्रभारी ज्ञान सिंह को चेतावनी जारी करते हुए वेतन रोकने के निर्देश दिये। इसके साथ ही गेहूं खरीद को लेकर मण्डी परिसर में प्रापर इंतजाम न करने एवं भारी अव्यवस्था पाये जाने पर डीएम ने सचिव मण्डी देव कुमार पोरवाल के खिलाफ विजीलैंस जांच कराने के निर्देश दिये। डीएम ने आगाह कि शासन द्वारा इस वर्ष गेहूं खरीद हेतु 1625 रूपये प्रति कुंटल का रेट निर्धारित किया गया है, साथ ही 90 हजार मीटरी टन गेहूं खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिसे हमंे हर हाल में पूर्ण करना है। डीएम ने केन्द्र पर लगाये गये कांटे भी चैक किये जिनमें भारी अंतर पाया गया।
           डीएम विजय किरन आनन्द ने निरीक्षण के दौरान निर्देश दिये कि व्यापार कर, मण्डी शुल्क जमा हो रहा है या नहीं, इसकी प्रापर चैकिंग की जाये, वाणिज्य कर विभाग, मण्डी के निरीक्षक इसकी समय समय पर जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें। वैट एवं मण्डी शुल्क की चोरी कतई बर्दाश्त नहीं की जायेगी, लापरवाही मिलने पर संबंधित के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी। किसान हमारे अन्नदाता है, गेहूं खरीद में किसानों का शोषण कतई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। मण्डी परिसर में किसानों के बैठने एवं पीने के पानी आदि समस्त प्रकार की अवस्थापना सुविधाएं पूर्ण कर ली जायें, गेहूं खरीद में अच्छी प्रगति हेतु किसानों से रिश्ता कायम रखा जाये, इस हेतु किसान सहायक, लेखपाल, ग्राम विकास अधिकारियों आदि द्वारा अच्छे किसानों से सम्पर्क किया जाये। आरटीजीएस के माध्यम से गेहूं खरीद की धनराशि 24 घण्टे के अंदर किसानों के खातों में जायेगी, इसके लिए उन्हें जानकारी दी जाये जिससे वे अपना गेहूं सरकारी केन्द्र पर विक्री कर सकें। डीएम ने कहा कि गेहंू खरीद हेतु मण्डी प्रमुख स्थान है, जो दुकानें आवंटन के बावजूद संचालित नहीं हैं उनके लाईसैंस निरस्त कर नये लोगों को मौका दिया जाये।
       डीएम ने निर्देश दिये कि मण्डी परिसर में नीलामी के दौरान एसडीएम, तहसीलदार की उपस्थिति सुनिश्चित कराई जाये, उनकी देखरेख एवं सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में नीलामी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि किसानों हेतु संचालित योजनाओं के बारे में प्रापर प्रचार प्रसार किया जाये, केन्द्र पर पोस्टर, बैनर, पम्पलेट भी लगाये जायें, किसानों को अधिक से अधिक जानकारी उपलब्ध कराई जाये जिससे वे अधिक से अधिक अपनी फसल का उत्पादन कर सकें। राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना के तहत प्रगति में सुधार लायें, किसानों को मोटीवेट किया जाये। डीएम ने इस दौरान व्यापारियों से भी वार्ता कर उनकी समस्याओं को प्रमुखता से सुनते हुए किसानों का उनकी फसल का मूल्य अधिक से अधिक मिल सके इसके लिए अपील की।
        डीएम द्वारा निरीक्षण के दौरान एसडीएम संजीव कुमार, तहसीलदार रनवीर सिंह, डिप्टी आरएमओ, सचिव मण्डी आदि मौजूद थे।


'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.