Header Ads

एटा मे सीसीटीवी कैमरे की निगरानी मे सम्पन कराई जाये विश्वविद्यालय की परीक्षाएं,केन्द्र पर नकल मिली तो सेक्टर मजिस्ट्रेट,केन्द्र व्यवस्थापक पर होगी कार्यवाही-डीएम

कलैक्ट्रेट सभागार मे

आयोजित बैठक में डीएम ने सभी केन्द्र व्यवस्थापकों को दिये निर्देश
एटा। डीएम विजय किरन आनन्द ने जनपद में चल ही विश्वविद्यालय की परीक्षाओं को लेकर सभी केन्द्र व्यवस्थापकों के साथ कलैक्ट्रेट सभागार में एक आवश्यक बैठक की। डीएम ने इस दौरान निर्देश दिये कि विश्वविद्यालय की परीक्षाओं को जनपद में स्वतत्र, निष्पक्ष, शांतिपूर्ण एवं नकलविहीन सम्पन्न कराये जाने के उद्देश्य से 5 जोनल एवं 33 सेक्टर मजिस्ट्रेटों सहित प्रत्येक केन्द्र पर वीडियोग्राफर की भी तैनाती की गई है जो अपनी कड़ी निगरानी में परीक्षाओं को सकुशल सम्पन्न करायेंगे। छात्र, छात्राओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कतई नहीं होने दिया जायेगा, परीक्षाओं की पवित्रता कायम रहे इसके लिए सभी केन्द्र व्यवस्थापक अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करें। सीटिंग प्लान अतिमहत्पूर्ण है, सीटिंग प्लान का शतप्रतिशत अनुपालन प्रत्येक केन्द्र पर होना चाहिए।
         डीएम विजय किरन आनन्द ने निर्देश दिये कि जनपद के महाविद्यालयों में भारी मात्रा में नकल होने की शिकायत है, इस नकल की प्रथा को अब समाप्त करना ही हमारा लक्ष्य है। बहानेबाजी अब कतई बर्दाश्त नहीं होगी, प्रत्येक केन्द्र पर सीसीटीवी कैमरे संचालित मिलने चाहिए, सीसीटीवी फुटेज चैक करने के दौरान यदि कोई शिथिलता मिली तो संबंधित केन्द्र के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी। केन्द्र पर प्रवेश के दौरान प्रवेश पत्र से परीक्षार्थियों का मिलान अवश्य किया जाये, प्रवेश द्वार पर वीडियो कैमरे की निगरानी में तलाशी के उपरान्त ही प्रवेश करने दिया जाये। केन्द्र के आसपास 200 मीटर की परिधि में कोई भी वाहन, भीड़ का जमावड़ा नहीं होना चाहिए, कोई भी फोटोस्टेट की दुकान आदि खुली मिले तो तत्काल सूचना दें, परीक्षा के दौरान किसी भी प्रकार का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रश्नपत्र, उत्तर पुस्तिकाओं की सुरक्षा बहुत आवश्यक है, इसके लिए प्रत्येक केन्द्र पर वीडियोेकैमरे की निगरानी में प्रश्नपत्र खोलने एवं सीलिंग की कार्यवाही सुनिश्चित कराई जाये।
         डीएम ने निर्देश दिये कि जनपद के करीब दो लाख बच्चों के भविष्य का सवाल है, साथ ही मेहनत करके पढ़ने वाले बच्चों के भविष्य को भी ध्यान में रखते हुए सुनिश्चित करें कि केन्द्र पर नकल कतई नहीं होने दी जाये। पहले सभी केन्द्र व्यवस्थापकों को बताया जा रहा है, यदि नहीं मानेंगे तो ऐसी कार्यवाही की जायेगी कि कल्पना भी नहीं की होगी। सभी केन्द्र व्यवस्थापक अपने सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ समन्वय स्थापित कर विश्वविद्यालय की परीक्षाओं को नकलविहीन सम्पन्न कराने में अपना सहयोग प्रदान करें। केन्द्र पर शौचालय, पीने का पानी, फनीचर आदि समस्त अवस्थापना सुविधाएं पूर्ण कराई जाये, किसी भी परीक्षार्थी को असुविधा नहीं होनी चाहिए। डीएम ने जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देश दिये कि जिन केन्द्र पर सीसीटीवी कैमरे अभी तक नहीं लगे हैं उनकी सूची उपलब्ध कराई जाये।
'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.