Header Ads

एटा के ईओ नहीं बता सके डस्टबिन के मानक,100 करोड़ खर्च होने के बाबजूद हालत जस के तस,15 दिन में शहर को सिंगापुर की तरह चमकाने के आदेश-डीएम

एटा-
जिलाधिकारी विजय किरन आनंद ने जिले की नगर पालिका एवं नगर पंचायत पर अब शिकंजा कसना शुरु कर दिया है,
कलक्ट्रेट सभागार मे जिला के सभी नगर पालिका एवं नगर पंचायत के ईओ और जिम्मेदार कर्मचारियो के साथ बैठक की
सफाई व्यवस्था पर नाराजगी जताते हुए निर्माण कार्यां की जांच कराने को कहा है,
सफाई व्यवस्था पर 75 से 100 करोड़ रुपये एक साल में खर्च होते हैं, इसके बाबजूद भी पूरा शहर गंदा रहता है,
15 दिन में शहर को सिंगापुर की तरह चमकाने के आदेश दिये हैं।
वहीँ जिलाधिकारी विजय किरन आनंद ने 15 दिन बाद 1 मार्च से सफाई व्यवस्था का राजस्व टीम से निरीक्षण कराने को कहा है। उन्होंने कहा वर्ष 2016-17 में हुए निर्माण कार्य में हेराफेरी की शिकायत मिली हैं। निर्माण कार्य की सूची मांगते हुए उन्होंने फर्म को ब्लैक लिस्टेड कर ठेकेदार को जेल भेजने की चेतावनी दी है। जिलाधिकारी ने कहा नगर निकाय के ग्राउंड रूल फॉलो करने के आदेश दिये हैं। उन्होंने कहा न नीतियों की कमी है और न योजनाओं की, कमी सिर्फ काम करने की इच्छा शक्ति की है। यदि अधिकारी कर्मचारी अपनी जिम्मेदारी समझें तो शहर सिंगापुर की तरह चमकेगा। उन्होंने कहा जिले में 707 सफाई कर्मचारी हैं, इसके बाद भी जिले के सभी शहर और कस्बा गंदे हैं।
बैठक में जिलाधिकारी ने गृहकर के बकाये की जानकारी ली। उन्होंने डोर टू डोर कलेक्शन के आदेश दिये हैं। पानी की निकासी की व्यवस्था न होने पर भी उन्होंने नाराजगी जताई है।
बैठक में एडीएम सतीश पाल, एसडीएम सदर रविप्रकाश श्रीवास्तव मौजूद थे।
बैठक में जिलाधिकारी ने ईओ से डस्टबिन के मानक पूछे, जो अधिकांश ईओ नहीं बता सके। इस पर आश्चर्य व्यक्त करते हुए डीएम ने नाराजगी जताई। साथ ही सुपरवाइजर के साथ समन्वय बनाने की सलाह देते हुए प्रत्येक वाहन का हिसाब रखने को कहा। कूड़ा प्रबंधन पर उन्होंने प्रत्येक गाड़ी का रूट चार्ट बनाने को कहा। साथ ही सुबह छह से दो और दोपहर दो बजे से छह बजे तक दो शिफ्ट में सफाई कर्मचारियों से काम कराने को कहा।
टॉयलेट शीशे की तरह चमकने चाहिए-
जिलाधिकारी ने टॉयलेट के गंदे रहने पर नाराजगी जताते हुए कलक्ट्रेट के टॉयलेट चमकाने के लिए नाजिर राजवीर को जिम्मेदारी सौंपी है। उन्होंने कहा सभी टॉयलेट शीशे की तरह चमकते रहने चाहिए। टॉयलेट गंदा मिलने पर की जायेगी कार्यवाही
जांच के बाद लगेगी टाइल्स
एटा शहर गलियों के निर्माण में लगने वाली टाइल्स के लिए जिलाधिकारी ने पीडब्ल्यूडी से चैक कराने को कहा है। रिपोर्ट आने पर ही टाइल्स का उपयोग किया जाये। उन्होंने सभी ईओ से लाइट का हिसाब मांगा है। कितनी लाइट मिली उसमें कितनी खराब हैं।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.