Header Ads

एटा पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जुगेन्द्र सिंह यादव ने सदर विधायक आशीष यादव आशू को सुअर का बच्चा शराबी नशेडी जुआरी बताया

लखनऊ-
समाजवादी पार्टी की रार अब खुलकर एटा जिले में देखी  जा सकती  हैं। मुलायम गुट के एटा सदर विधायक आशीष यादव द्वारा आज रामगोपाल यादव को गद्दार कहने के बाद रामगोपाल यादव गुट के एटा सदर विधान सभा छेत्र से घोषित सपा उम्मीदवार जुगेंद्र सिंह यादव  ने रामगोपाल  यादव का बचाव कर उन  को संत बताते हुए  सदर विधायक को सुअर और सुअर का बच्चा तक कह डाला। यही नहीं उन्होंने सदर विधायक को नसेड़ी , पागल करार देते हुए उसको पागल खाने भेजने की भी मांग की और उनके पिता रमेश यादव सभापति उत्तर प्रदेश विधान परिषद को तुरन्त बर्खास्त करने की मांग उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से की। 
एटा में मुलायम सिंह और रामगोपाल यादव गुटो के  नेताओ में वाक् युद्ध और तल्खी इस कदर बढ़ गयी है कि रामगोपाल यादव के लिए गद्दार और एटा विधायक के लिए सुअर और सुअर का बच्चा ,नसेड़ी , जुआरी जैसे शब्दो का प्रयोग खुलकर प्रेस कॉन्फ़्रेन्स में किया  जा  रहा  है। एटा सपा विधायक के मुह पर थूक देने की भी बात की जा  रही है।
दर असल आज दिन में दोपहर दो बजे के लगभग मुलायम गुट के माने जाने वाले एटा सदर विधायक आशीष यादव ने रामगोपाल यादव को गद्दार कहा और कहा कि रामगोपाल यादव , उनका बेटा, और उनकी बहू बी  जे  पी से मिले हुए हैं और सी बी आई से बचने के लिए रामगोपाल ने पार्टी को ख़त्म कर दिया। पार्टी के विभाजन का जिम्मेदार रामगोपाल को ठहराया गया।  यह भी कहा गया कि अखिलेश ने पुत्र धर्म नहीं निभाया। 
इसके उत्तर में एटा सदर सीट से अखिलेश यादव द्वारा प्रत्याशी घोसित किये गए सपा नेता और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जुगेंद्र सिंह यादव ने जिला पंचायत परिसर में पत्रकार वार्ता में वर्तमान एटा सदर विधायक को सुअर और  सुअर का बच्चा तक कह डाला। यह भी कहा कि प्रोफ़ेसर साहब पर ऐसे आरोप कोई सुअर टाइप का ही व्यक्ति लगा सकता हैं। उंहोने कहा कि ये हिम्मत हो तो चुनाव लड़े जनता इसको गाव में जूतों से मारेगी  और दिखाएगी कि असली गद्दार कौन हैं ? एटा विधायक के बारे में उन्होंने कहा कि मैं इसके मुह पर थूकता हूँ। ये विधायक तो सुअर का बच्चा हैं जो मुख्यमंत्री के लिए कहता  हैं कि उन्होंने पुत्र धर्म नहीं निभाया। इससे बड़ा नालायक व्यक्ति कोई हो नहीं सकता। ये तो नेताजी ( मुलायम सिंह ) के नौकरो से मिलने लायक नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मैं इसके पिता  सभापति (रमेश यादव ) से कहूँगा कि इसको नशा मुक्ति केंद्र में करें ,ये पागल हो चुका हैं। उन्होंने मुलायम सिंह के बाद अखिलेश को नेता बताया। 
जुगेंद्र यादव ने कहा कि मैं चुनाव लड़ूंगा और  इस विधायक  की जमानत जप्त करके इसके मुह पर थूंक कर आऊंगा और मैं विधान सभा जाऊंगा। उन्होंने सदर विधायक आशीष यादव और इनके पिता विधान परिषद् के सभापति रमेश यादव पर सपा के विरोध में हमेशा काम करने  का आरोप लगाया।  और  इस दौरान  उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से सभापति रमेश यादव को तुरंत बर्खास्त करने की मांग की।




'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.