Header Ads

एटा में अस्पताल मे रिश्वत नही देने पर महिला को निकाला वाहर,2वच्चो को रोड पर दिया जन्म

एटा-
उत्तर प्रदेश में सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं में भ्रस्टाचार का एक और मामला एटा में उजागर हुआ हैं जिसके  चलते एक प्रसूता महिला को एटा के
सरकारी महिला चिकित्सालय से डॉक्टर द्वारा मांगे गए सुविधा सुल्क के ४०००
रुपये न देने पर भगा दिया गया। वापस जाते समय प्रसूता महिला के सड़क पर
रिक्शे में ही प्रसव हो  गया। महिला ने  दो बच्चो को रिक्शे में ही जन्म
दिया।  काफी भीड़ इकाठ्ठा हो जाने पर किसी ने १०८ एम्बुलेंस को फोन किया
,लगभग आधा घंटे बाद एम्बुलेंस आयी तब आस पास  के लोग महिला को लेकर उसी
सरकारी महिला चिकित्सालय में पहुंचे जहां से प्रसूता महिला को भगा दिया
गया था। इस दौरान महिला दर्द से बुरी तरह से कराहती रही। पीड़ित महिला और
उसके पति ने रुपये मांगने वाली डॉक्टर और अस्पताल के खिलाफ कार्यवाही की
मांग की हैं।
 एटा जिले के बागवाला थाना छेत्र के नगला समद की रहने वाली रीना
(३५) साल बीती रात के लगभग ९ बजे अपने पति हरिओम के साथ एटा के सरकारी
महिला चिकित्सालय में प्रसव कराने  के लिए पहुंची।  महिला को जब उसके पति
हरिओम  ने डिलीवरी के लिए अस्पताल में भर्ती करने को कहा तो आरोप है कि वहां पर
तैनात डॉ ० अनीता ने उससे सुविधा शुल्क के ४००० रुपये मागे। हरिओम ने कहा
कि अभी मेरे पर ५०० रुपये हैं वो ले लो और शुवह मेरा भाई और रुपये लाकर
दे देगा ,और तब तक महिला को भर्ती कर लो।  इतना सुनते ही आरोप हैं कि
महिला डॉक्टर अनीता ने प्रसूता महिला रीना को अस्पताल  से भगा दिया और
उसकी डिलीवरी करने से मना कर दिया।  महिला और उसका पति डॉक्टर के सामने
गिड़गिड़ाते रहे परंतु उनकी डॉक्टर ने एक न सुनी।  मजबूर होकर हरिओम अपनी
गभवती पत्नी जो दर्द से बुरी तरह से  कराह रही थी को बैटरी वाले रिक्शे
में बिठाकर घर की और चल दिया।  अभी वो एटा शिकोहाबाद रोड पर प्रेम नगर
चौराहे पर पहुंचा ही था कि रीना ने रिक्शे में ही दो बच्चो को जन्म दे
दिया।
इस दौरान आस पास के लोग एकत्रित हो गए और किसी ने १०८ एम्बुलेंस को फोन
कर दिया परंतु आधा घंटे बाद एम्बुलेंस मौके पर पहुँची जहां से लोगो ने
महिला रीना , उसके पति हरिओम और उसके दोनों नवजात बच्चो को उसी महिला
सरकारी अस्पताल पहुचाया जहां से उसे  ४००० रुपये सुविधा शुल्क न देने भगा
दिया गया था। वहां एकत्रित हुए लोगो के कहने पर बमुश्किल डॉक्टर ने
प्रसूता महिला को अस्पताल में भर्ती किया और उसका इलाज शुरू किया।
महिला को हुए दो बच्चो में एक लड़की है और एक लड़का है और दोनों पूरी तरह
से स्वस्थ हैं।
इस दौरान पीड़ित महिला रीना और उसके पति हरिओम ने बताया कि उससे प्रसव
करवाने के एवज में डॉक्टर अनीता द्वारा ४००० रुपये की सुविधा शुल्क
रूप में मांग की गयी थी।  परंतु गरीब होने के  कारण हरिओम के पास मात्र
५०० रुपये ही थे जो वो देने को तैयार हो गया था और डॉक्टर से ये भी कहा थ कि
उसका भाई सुबह आएगा तो बाकी के पैसे उससे मंगवाकर दे देंगे।  परंतु
डॉक्टर का दिल इसपर भी नहीं पसीजा और उसने सुविधा सुल्क न देने के कारण
गर्भवती महिला रीना को अस्पताल से भगा दिया और घर वापस जाते  समय रीना ने
रास्ते में रिक्से में ही दो बच्चो को जन्म दे दिया।
इस आरोपो के बारे में जब महिला डॉक्टर अनीता से बात की गयी तो उसने इन
आरोपो को निराधार बताया परंतु उसने स्वीकार किया कि उसने गर्भवती महिला
को वापस किया था और रस्ते में घर जाते समय रीना ने दो बच्चो को जन्म दिया
हैं।  फिलहाल जच्चा और बच्चा दोनों जिला महिला अस्पताल में भर्ती हैं और
उनका इलाज चल रहा हैं।  इस बीच प्रसूता महिला रीना और उसके पति हरिओम ने
सुविधा शुल्क मांगने वाली डॉक्टर और अस्पताल के खिलाफ कार्यवाही करने की
मांग की हैं।




ट्वीटर पर Follow करें @ShineNewsWeb
'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.