Header Ads

एटा का बबरौती गॉँव सजा दुल्हन की तरह,नेताओ ने भीड़ एकततिरित करने को झौंकी ताकत

एटा-
जवाहर विद्युत तापीय परियोजना के शिलान्यास के लिए परियोजना स्थल बबरौती को दुल्हन की तरह सजाया है। शुक्रवार को होने वाले कार्यक्रम में दस हजार लोगों के बैठने की क्षमता वाला विशाल और भव्य पंडाल सजाया है।

परियोजना शिलान्यास के साथ ही कई अन्य योजनाओं की घोषणा करने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव शुक्रवार को आ रहे हैं। शिलान्यास कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए व्यापक इंतजाम किए गए हैं। प्रशासनिक अमला तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए गुरुवार को देर शाम तक जुटा रहा। पंडाल के निकट बड़े और छोटे वाहनों की पार्किंग के अलावा 10 स्थानों पर प्रवेश द्वार बनाए गए हैं। परियोजना स्थल पर बनाए गए पंडाल में पास धारकों के लिए ही बैठने की व्यवस्था है। मुख्य मंच के बगल में एक अन्य मंच बना है, जहां से मुख्यमंत्री छात्र-छात्राओं को साइकिल वितरण करेंगे।

सुरक्षा के कड़े बन्दोवस्त

मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात रहेंगे 12 एडीशनल एसपी,18 डिप्टी एसपी,70 थानाध्यक्ष, 178 दरोगा, 842 कांस्टेबल,200 महिला पुलिसकर्मी ,3 कंपनी पीएसी,

परियोजना स्थल पर आधा दर्जन पार्किंग बनाई गई हैं।

हैलीपेड से मंच तक पक्की रोड

परियोजना स्थल बबरौती पर दो हैलीपेड बनाए गए हैं। इनमें से एक हैलीपेड पर मुख्यमंत्री और दूसरे पर मुख्य सचिव के हैलीकॉप्टर उतरेंगे,
हैलीपेड से लेकर मंच तक करीब 100 मीटर पक्की गैलरी में 28 होर्डिंग,लगाये गये है,
मुख्यमंत्री और उनके साथ आने वाले आला अफसरों के लिए मंच के पास ही आधा दर्जन से ज्यादा स्विस कॉटेज बनाई है

बटन दबाकर करेगे शिलान्यास मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

जवाहर विद्युत तापीय परियोजना का शिलान्यास मुख्यमंत्री बटन दबाकर करेंगे,

कार्यक्रम स्थल पर परियोजना के दो मॉडल रखे गए हैं, जो देखने में काफी आकर्षक हैं। मुख्यमंत्री एटा की 660-660 मेगावाट की दो यूनिट के साथ ही सोनभद्र की परियोजना का भी यहीं से शिलान्यास करेंगे। मुख्यमंत्री 11 बजे लखनऊ से परियोजना स्थल पर पहुंचेंगे।

ऐसे पहुंचें कार्यक्रम स्थल तक

जवाहर विद्युत तापीय परियोजना स्थल पर पहुंचने के लिए जिला मुख्यालय से बसें व अन्य साधन उपलब्ध हैं। एटा की ओर से जाने वाले पहले मलावन पहुंचेंगे। जहां इस गांव के किनारे से एक लिंक सड़क बबरौती के लिए बनाई गई है। एटा-अलीगंज मार्ग से आने वाले लोग आसपुर-करतला चौराहे वाली सड़क पर पहुंचकर गांव लभैंटा से बबरौती के लिए मुड़ सकते हैं। कुरावली से आने वाले लोगों के लिए मुफीद रास्ता मलावन-बबरौती मार्ग ही रहेगा।

निम्न खबर मुख्य खबर में इंसेट हो सकती है

*परियोजना का मॉडल

जवाहर तापीय विद्युत परियोजना और सोनभद्र की ओबरा परियोजना का मॉडल दिल्ली की आर्किटेक्ट कंपनी डेजिन प्राइवेट लिमिटेड ने तैयार किया है। सीनियर मॉडलर जीएल शर्मा ने बताया कि प्रत्येक मॉडल 660 मेगावाट यूनिट के लिए है। यह परियोजना का स्वरूप है। इसी ढांचे के आधार पर परियोजना बनेगी

350.7 हेक्टेयर (865 एकड़) में बनेगी परियोजना
15 करोड़ से चमकेंगे 5 गांव
विद्युत उत्पादन निगम उपलब्ध कराएगा रोजगार
36 एकड़ में बनेगा मुख्य संयंत्र
221 एकड़ में बनेगी ग्रीन बेल्ट
प्रदूषण पर नजर रखने को बनेगी नियंत्रण प्रणाली
275 मीटर होगी चिमनी की ऊंचाई
मलावन में लगेगा स्वचालित मौसम यंत्र
374 करोड़ की लागत से बनेगी नहर
रेलवे लाइन व होगा सड़कों का मैदान।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.