Header Ads

बुलंदशहर शूटआउट: 20 दिन की छुट्टी नहीं मिलने पर चलाई थीं गोलियां

बुलंदशहर-
सोमवार रात एक सिपाही ने पुलिस लाईन में अंधाधुंध फायरिंग कर दी थी। फायरिंग में एक सिपाही की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दो सिपाही गम्भीर रूप से घायल हो गए। बाद में पुलिस लाइन के मैदान में पहुंचकर आरोपी सिपाही ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। घायल दो पुलिसकर्मियों का इलाज मेरठ में चल रहा है। बताया जा रहा है कि आरोपी 20 दिन की छुट्टी न मिलने से दुखी था।

बुलंदशहर पुलिस लाइन में क्वार्टर गार्ड संतरी सौरभ त्यागी ने आज देर शाम अपनी राइफल से कोहराम मचा दिया। सौरभ त्यागी ने थ्री नॉट थ्री बोर की राइफल से अपने साथियों पर गोलियां चलानी शुरू कर दी। सौरभ त्यागी ने ड्यूटी स्थल से ही राइफल से गणना कार्यालय में बैठे सिपाही मनोज यादव (35 वर्ष) निवासी एटा को गोली मार दी। मनोज की मौके पर ही मौत हो गयी। मनोज एटा जिले के निवासी थे। इसके अलावा हमलावर सौरभ ने एचसीपी चन्द्रपाल और मनवीर को भी गोलियां मारी है। मनवीर और चन्द्रपाल गंभीर रूप से घायल है और दोनो को इलाज के लिए हायर मेडिकल सेंटर मेरठ रेफर कर दिया गया था। जहा पर दोनों की हालत चिंता जनक बनी हुई है।

तीन पुलिसवालों को अपनी राइफल की गोलियों का शिकार बनाकर सौरभ त्यागी पुलिसलाइन के मैदान की ओर चला गया। पुलिसवाले उसे रोकते तो वह राइफल की नाल उनकी ओर कर देता। सूचना पर एसएसपी अनीस अहमद, एसपी सिटी मान सिंह चौहान और एसपी देहात पंकज कुमार पाण्डेय भी पुलिस लाइन पहुंच गए। एसएसपी उसके काफी करीब तक पहुँचे गए और लाउडस्पीकर की मदद से उसे समझाने की कोशिश की। उन्होने उसे आत्मसमर्पण करने को कहा। लेकिन सौरभ ने उनकी बात नही मानी। करीब 45 मिनट तक उसे समझाने की मशक्कत नाकाम रही। अंतत: सौरभ ने खुद की गर्दन पर राइफल की नाल रखी और गोली चला दी। सौरभ की मौके पर ही मौत हो गयी।

बता दे कि सौरभ त्यागी 2005 बेच का सिपाही था। सौरभ कुछ महीने पहले अपनी हरकतों के चलते सजा बतौर बुलंदशहर पुलिस लाइन से तबादला किया गया था। लेकिन तीन दिन पहले उसे फिर से बुलंदशहर तैनाती दी गयी थी। लेकिन उसकी हरकतें जारी रही और उसकी हत्यारी सनक एक सिपाही की जान लील गयी और दो को मौत जैसे नासूर दे गयी। घटना के बाद पुलिस लाइन की नाकेबंदी करके मामले की जांच पड़ताल तेज कर दी गई है। वही, मेरठ जोन के आईजी सुजीत पाण्डेय ने बुलंदशहर पहुंचकर घटना की जानकारी एसएसपी से ली है।

शराब की लत के चलते कई बार हुआ निलंबित

मुजफ्फरनगर का निवासी सौरभ त्यागी वर्ष 2005 में खेल कोटे से सिपाही भर्ती हुआ था। पुलिसकर्मियों की मानें तो उसे शराब की लत लग गई, जिसके कारण सौरभ त्यागी कई बार निलंबित भी हुआ था। निलम्बन के चलते सौरभ को खेल से हटा दिया गया था। जिसके विरोध में सौरभ ने कोर्ट में केस डाला और जीत गया। केस जीतने के बाद सौरभ को आजमगढ ट्रैनिंग के लिए भेज दिया गया था। सौरभ 20 अगस्त को अपनी ट्रैनिंग पूरी करके वापिस लौटा था। सोमवार की रात ड्यूटी पर तैनाती के दौरान राइफल से अंधाधुंध फायरिंग कर दी।

20 दिन की छुट्टी मांग रहा था

पुलिस लाइन में सोमवार की रात सिपाही सौरभ त्यागी द्वारा खेले गए खूनी खेल के बाद पुलिसकर्मियों में चर्चा हो रही है कि वह 20 दिन की छुट्टी मांग रहा था। उसको छुट्टी नहीं मिल पा रही थी। इसके कारण वह तनाव में रह रहा था। सूत्रों का कहना है इसी तनाव के कारण वह शैतान बन गया। पुलिसकर्मियों ने छुट्टी के तनाव को इसका मुख्य कारण बताया है। हालांकि पुलिस अधिकारी इस बारे में अभी कुछ नहीं बोल रहे। अधिकारी जांच कराए जाने की बात कह रहे हैं।

ट्रैनिंग के दौरान दिखाई जाती थी सौरभ की वीडियो

सौरभ त्यागी वर्ष 2005 का एथलीट था और स्पोर्ट कोटे से पुलिस में भर्ती हुआ था। पुलिस सूत्र बताते है कि सौरभ की वीडियो स्पोर्ट पुलिस कर्मियों को ट्रैनिंग के दौरान दिखाई जाती है। सौरभ 400 रिले रेस का बेहतरीन खिलाड़ी था। सूत्र बताते है कि सौरभ एक अच्छा एथलीट होने के साथ एक अच्छा धावक भी था।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.