Header Ads

फरार दयाशंकर ने दिया इंटरव्यू-सॉरी बहन जी, लेकिन आप टिकट बेचती हैं

खनऊ-
बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती को अपशब्द कहने के आरोपी दयाशंकर सिंह ने एक बार फिर उन पर टिकट बेचने का आरोप लगाया है। लखनऊ में केस दर्ज होने के बाद से फरार भाजपा से निष्कासित दयाशंकर सिंह ने एक अंग्रेजी अखबार से कल इंटरव्यू में साफ कहा है कि इस मामले में हर तरह से सहयोग करने को तैयार हूं, मुझसे जहां पेश होने को कहा जाएगा, मैं पहुंच जाउंगा लेकिन मुझे सुरक्षा मिले। इस बीच दयाशंकर ने अखिलेश यादव को अपने परिवार को सुरक्षा देने पर धन्यवाद भी दिया है।

अंग्रेजी अखबार को इंटरव्यू में भाजपा से निष्कासित दयाशंकर सिंह ने कहा कि उन्हें बसपा नेता मायावती पर बयान का अफसोस है, लेकिन उन्होंने फिर दावा किया कि मायावती पैसे लेकर टिकट बेचती हैं। वह एक बार फिर कह रहे है कि सॉरी बहन जी, लेकिन आप टिकट बेचती हैं।

दयाशंकर सिंह ने कहा कि मैंने बसपा की मुखिया मायावती के बारे में जो कुछ भी कहा वो वो बहुत गलत था और मुझे इस पर अफसोस है।

19 जुलाई को मीडिया के सवालों का जवाब देते वक्त मुझसे यह चूक हो गई। हालांकि, यह सच है कि जो भी शख्स टिकट की अधिक कीमत देता है, बसपा प्रमुख उन्हें ही टिकट बेचती हैं। मैंने अपशब्द को लेकर उसी दिन माफी मांगी थी और फिर मांग रहा हूं।

दयाशंकर सिंह ने कहा कि इसके बाद तो मेरे जीवन में भूचाल आ गया। मेरे खिलाफ तमाम मुकदमे दर्ज हैं। मेरी पत्नी तथा बच्ची को बसपा के नेताओं ने ऐसे-ऐसे भद्दे अपशब्द बोले जिसके बारे में कल्पना भी नहीं कर सकता हूं।

उन्होंने कहा जहां तक पुलिस से सहयोग करने की बात है तो मैं हर स्तर से तैयार हूं। मुझे जहां भी हाजिर होने को कहा जाएगा, मैं आ जाऊंगा, लेकिन सबसे पहले मुझे खुद को बचाना है। बसपा के कुछ नेता और कार्यकर्ताओं ने मेरी जीभ काटने और सिर पर इनाम की घोषणा की है। दयाशंकर ने कहा कि मुझे आज तक एफआईआर की कॉपी तक नहीं मिली है। मुझे मीडिया के जरिए ही केस की जानकारी मिली है।

अपनी गलती के बारे में दयाशंकर ने कहा कि गलती तो मैंने की है, लेकिन तत्काल माफी भी मांग ली थी। इसके बाद भी बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन मेरी पत्नी और बेटी को खुलेआम धमकी दे रहे हैं। वे कैसे मेरे नाबालिग बेटी के खिलाफ ऐसा बोल सकते हैं। क्या मेरी पत्नी व बच्ची की प्रतिष्ठा मायावती से कम है।

दयाशंकर ने कहा कि इस बाबत मेरी पत्नी ने भी बसपा के कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।

अब कानून अपना काम करेगा। मेरा यह कहना है कि जब मेरी पार्टी ने मेरे खिलाफ कार्रवाई की तो फिर क्यों मायावती बसपा नेताओं पर एक्शन नहीं ले रही है। जब मैंने और भाजपा के राष्ट्रीय नेताओं ने माफी मांग ली है तो फिर बसपा नेताओं में इतना गुस्सा क्यों है।

दयाशंकर ने कहा कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी मेरे बयान की आलोचना की है। यह सही भी है, बयान स्तरीय नहीं था। इसके बाद भी मैं मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मेरे परिवार को सुरक्षा देने के लिए शुक्रगुजार हूं। उन्होंने तब हमारी मदद की, जब मेरे परिवार पर जान का खतरा था।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.