Header Ads

बुलंदशहर पत्नी और पुलिस तंग आकर पति की आत्महत्या,ससुर की जमीन डकारने किया था नाटक

बुलंदशहर में एक महिला ने अपने भाईयों और पुलिस के साथ मिलकर अपने पति को आत्महत्या करने पर मजबूर कर दिया. अपने ससुर की जमीन डकारने के लिए महिला ने भाइयों के साथ मिलकर पति पर दो बार जानलेवा हमला किया और पुलिस से गठजोड़ करके उसे फर्जी मामलों में दो बार जेल की सलाखों के पीछे भी पहुंचा दिया. पत्नी के भाइयों के खौफ और पुलिस की प्रताड़ना के शिकार पति ने जेल से छूटते ही खुद को आग लगा ली जिससे उसकी मौत हो गई. अब बुलंदशहर में अंधा कानून बेगुनाह की मौत पर लीपापोती कर रहा है.

बुलंदशहर :के गंगेरूआ गांव में रिटायर्ड अध्यापक नागरदत्त शर्मा के घर चार दिन से कोहराम मचा है. सुबह से शाम तक बस रोने की आवाजें आती हैं. इस घर का इकलौता चिराग बुझ गया है. घर के बेटे को बुलंदशहर पुलिस और बहू के भाइयों का खौफ लील गया. बीबी और उसके भाइयों की साजिश के शिकार चंचल को पुलिस ने फर्जी मुकदमों में जेल भेजा था. चंचल जेल से छूटा और उसी दिन खुद को आग लगा ली. दो दिन के इलाज के बाद दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में 8 जुलाई को चंचल की मौत हो गई.

मृतक चंचल के पिता नागरदत्त शर्मा बताते हैं कि चंचल के ससुरालवालों की निगाह उनकी जायदाद पर बिगड़ गई थी. उनके खिलाफ, उनकी पत्नी और बेटे के खिलाफ दहेज एक्ट का मुकदमा लिखाया गया और वो भी शादी के सात साल बाद. पुलिस ने उनकी एक न सुनी. उन तीनों को जेल भेज दिया. पूरी जिंदगी सम्मान से गुजारने के बाद दोनों पति-पत्नी ने चंचल के साथ जेल काटी. हम तो झेल गये लेकिन चंचल बहुत परेशान हो गया

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.