Header Ads

एटा पत्रकार पर छेड़खानी का मामला,सीबीसीआईडी से जांच कराने की मांग व दोषी थानाध्यक्ष के निलम्बन का एक ज्ञापन एसडीएम सदर को सौंपा।

एटा-जैथरा-जुझारू पत्रकार सुनील कुमार कुछ लालची पुलिसकर्मियों की कारगुजारियों का खुलासा करने के लिए एक स्टिंग ऑपरेशन करता है। स्टिंग के जरिए पत्रकार एक रिपोर्ट तैयार करता है, जिसमे दिखाया जाता है कि किस तरह हिन्दू धर्म में पूज्यनीय गोवंश की तस्करी को खुद कुछ लालची पुलिसकर्मी बढ़ावा देते हैं। इस लापरवाही के कारण प्रदेश में कई स्थानों पर साम्प्रदायिक सोहार्द भी बिगड़ा है। लेकिन कुछ लालची पुलिसकर्मी अपनी जेब भरने के लिए फ़िजा बिगड़ने से मतलब नही रखते। यमुनापार(मथुरा) से गोवंश लाकर आसानी से गंगापार(बदायूं) लाकर तस्करी कर दी जाती है। इस बीच सैकड़ो पुलिसचौकी पड़ती है लेकिन इन गोवंश तस्करी पर निगाह किसी की नही पड़ती।
जब एटा जनपद की कोतवाली जैथरा के कुछ लालची पुलिसकर्मियों का एक स्टिंग जुझारू पत्रकार सुनील कुमार ने बनाया तो वीडियो सोशल साइडों पर वायरल हो गया, इसका असर यह हुआ कि तत्काल वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय शंकर राय ने दो कांस्टेबलों को लाइन हाजिर कर दिया। इससे नाराज जैथरा थानाध्यक्ष कैलाश दुबे ने पत्रकार सुनील कुमार पर छेड़खानी का मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया। हमने इस मामले में प्रदेश की सीबीसीआईडी से जांच कराने की मांग व दोषी थानाध्यक्ष के निलम्बन का एक ज्ञापन एसडीएम सदर को सौंपा।
सवाल है कि उत्तर प्रदेश में जिन थानो में अपराधियों को कई-कई दिन बैठाकर उनकी आवभगत करने वाली पुलिस एक पत्रकार को फर्जी मुकदमे में फसाकर तुरन्त जेल भेज देती है, दूसरी ओर दिल्ली पुलिस जो प्रोटेस्ट करने वाले निरीह छात्रों को बीच सड़क पर गिरा-गिराकर मारने वाले बीजेपी नेताओ को सलाम करती है वही आप के एक विधायक को गाली गलौच के इल्जाम मे प्रेस कॉन्फ्रेंस से गिरफ्तार कर ले जाती है। बाकई

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.