Header Ads

यौनशोषण मामले में गिरफ्तारी के आदेश के बाद IPS पुष्कर आनंद फरार

भोजपुर। पुलिस उपाधीक्षक स्तर की एक महिला पुलिस अधिकारी को शादी का झांसा देकर यौन उत्पीडऩ करने के आरोपों में घिरे भारतीय पुलिस सेवा के वर्ष 2009 बैच के अधिकारी और कैमूर के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक पुष्कर आनंद पर यौन शोषण में गिरफ्तारी का आदेश निर्गत होने के बाद वे अपने कार्य क्षेत्र से गायब हैं। उनसे फोन पर भी संपर्क नहीं हो पा रहा है।
जब उनसे पूछताछ के लिए उनके कार्यालय में संपर्क किया गया तो कार्यालय में पदस्थापित एक सिपाही ने बताया कि साहब तो कल शाम से ही बाहर गए हैं। दो-तीन दिनों के बाद ही उनसे मुलाकात हो सकती है।
यौन शोषण का आरोप निकला सही
महिला पुलिस अधिकारी को शादी का झांसा देकर उसका यौन शोषण करने के मामले में महिला अधिकारी द्वारा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई। उसके बाद जांच के बाद पुलिस ने पुष्कर आनंद पर लगे आरोपों को सत्य पाया ।
पुष्कर आनंद पर लगे आरोपों की पुष्टि करते हुए राज्य के डीजीपी पीके ठाकुर ने कहा कि अब पुष्कर आनंद के खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी। उनके विरुद्ध विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी।
क्या है मामला
बता दें कि पुष्कर आनंद पर एक महिला पुलिस अधिकारी द्वारा विगत 29 दिसंबर, 2014 को कैमूर के एक थाने में प्राथमिकी दर्ज कराए जाने के बाद इसकी जांच के लिए राज्य पुलिस मुख्यालय के स्तर पर तीन वरिष्ठ आइपीएस अधिकारियों की एक कमेटी का गठन किया गया था। इस कमेटी ने अपनी जांच में पाया कि पुष्कर आनंद महिला पुलिस अधिकारी को शादी का झांसा देकर उसके यौन उत्पीडऩ के दोषी हैं।
उक्त महिला पुलिस अधिकारी ने जांच कमेटी के सामने कई साक्ष्य भी उपलब्ध कराए थे। उन साक्ष्यों की फोरेंसिक जांच में पुष्टि हो चुकी है। पुष्कर पर महिला पुलिस अधिकारी द्वारा आरोप लगाए जाने के तत्काल बाद ही उन्हें स्थानांतरित कर आरा स्थित एमएमपी (घुड़सवार दस्ता) के कमांडेंट के पद पर तैनात कर दिया गया था। फिलहाल वे इसी पद पर हैं। जबकि महिला पुलिस अधिकारी को बीएमपी, कटिहार भेज दिया गया था।
बता दें कि आइपीएस अधिकारी पुष्कर आनंद पर डीएसपी स्तर की महिला पुलिस अधिकारी ने 29 दिसंबर 2014 को यौन शोषण का आरोप लगाते हुए कैमूर के थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। राज्य पुलिस मुख्यालय के तीन वरिष्ठ आइपीएस अधिकारियों की टीम गठित कर जांच कराई गई थी। जांच रिपोर्ट में पुष्कर आनंद को यौन शोषण मामले में दोषी करार दिया गया है। उसके बाद उनकी गिरफ्तारी का प्रयास शुरू कर दिया गया है।
पुष्कर आनंद भारतीय पुलिस सेवा के 2009 बैच के अधिकारी हैं। वे 2014 में कैमूर जिले में एसपी थे। उसी समय वहां पदस्थापित पुलिस उपाधीक्षक ने शादी का झांसा देकर यौन शोषण का आरोप लगाया था। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुष्कर आनंद को स्थानांतरित कर भोजपुर जिले में एमएमपी का कमांडेंट बना दिया गया था।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.