Header Ads

एटीएस कमांडो की निगरानी में अयोध्या का रामनवमी मेला

लखनऊ-
फैजाबाद-अयोध्या के रामनवमी मेले का आगाज हो चुका है। देश के कोने-कोने से लाखों की संख्या में श्रद्धालु अपने आराध्य भगवान राम का जन्मोत्सव मनाने के लिए रामनगरी में होंगे। ऐसे में सुरक्षा तंत्र के लिए सबसे बड़ी चिंता भारी भीड़ के बीच अयोध्या को आतंकी साजिश से महफूज रखना है। देश के विभिन्न हिस्सों में हो चुकी आतंकी घटनाओं ने रामनवमी मेले की संवेदनशीलता को बढ़ा दिया है। मंदिर-मस्जिद विवाद को लेकर आतंकियों के निशाने पर रहने वाली अयोध्या में रामनवमी मेला के लिए पुलिसकर्मियों के अतिरिक्त एटीएस कमांडो का एक दस्ता भी भेजा गया है। एटीएस कमांडो रिजर्व रखे जाएंगे और आवश्यकतानुसार इनका उपयोग किया जाएगा। मेला क्षेत्र की निगरानी के लिए ड्रोन कैमरा भी होगा। हालांकि सुरक्षा तंत्र ने किसी प्रकार के आतंकी खतरे के इनपुट से इन्कार किया है, पर लेकिन सुरक्षा व निगरानी के आवश्यक इंतजाम बता रहा है। अयोध्या पूर्व में भी आतंकी षडय़ंत्र का शिकार हो चुकी है। शुक्रवार से शुरू हुआ रामनवमी मेला सप्ताह भर चलेगा। रामजन्मोत्सव का आनंद उठाने के लिए देश के कोने- कोने से रामभक्तों के अलावा विदेशी श्रद्धालु भी मेले में शामिल होते हैं। ऐसे में स्थानीय पुलिस सहित प्रदेश सरकार ने भी सुरक्षा में कोई कोर-कसर नहीं रखी है। अभूतपूर्व सुरक्षा व्यवस्था तो होगी ही, आम लोगों को पाबंदियां भी झेलनी होंगी।
बढ़ाई गई कैमरों की संख्या
अयोध्या में निगरानी के लिए चिह्नित संवेदनशील स्थलों पर सीसीटीवी कैमरों की संख्या बढ़ा दी गई है। पूर्व के आयोजनों में १२ स्थानों पर कैमरे लगाए जाते थे, लेकिन इस बार २३ स्थानों पर उच्च क्षमता के सीसीटीवी कैमरे लगाए गए है। माना जा रहा है कि ड्रोन कैमरा मिलने के बाद निगरानी के इंतजाम और भी पुख्ता हो जाएंगे। सुरक्षा में छह एएसपी, २५ डिप्टी एसपी, दस इंस्पेक्टर, १०० सब इंस्पेक्टर, ७० मुख्य आरक्षी, ६०० आरक्षी, ११ कंपनी पीएसी, दो कंपनी आरएफ, बम निरोधक दस्ता दो टीम, एएस की नौ टीमें व पीएससी की एक कंपनी (बाढ़ सुरक्षा) के अतिरिक्त यातायात संभालने के लिए फोर्स लगाई जाएगी।अपर पुलिस अधीक्षक नगर संकल्प शर्मा ने कहा कि प्रमुख मंदिरों के साथ-साथ कुछ स्थानों पर विशेष निगरानी की जा रही है। जनता से अपील की गई है कि कोई भी संदिग्ध दिखे तो उसकी सूच तत्काल पुलिस को दी जाए।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.