Header Ads

IAS बी.चंद्रकला सेल्फी मामले में हुआ बड़ा खुलासा

यूपी के बुलन्दशहर की डीएम बी.चन्द्रकला की सेल्फी लेने पर एक युवक को जेल भेजे जाने के मामले में नया मोड़ आ गया है। 3 फरवरी को बुलन्दशहर की डीएम बी.चन्द्रकलां ने दावा किया था कि मीटिंग के दौरान युवक उनकी मेज के पास आया और ऐसे सेल्फी लेने लगा जैसे दोनो के चहरे सटे हुए हो,  लेकिन 2 फरवरी को जब युवक जेल भेजा गया तो चालानी रिर्पोट में पुलिस ने कुछ और ही लिखा था। इसका खुलासा हुआ है आज मिली चालानी रिर्पोट में जिसमें कहा गया है कि युवक कलैक्ट्रेट में आने जाने वालो के मोबाइल से फोटो खींच रहा था, जिसके कारण शान्ति व्यवस्था भंग होने के अंदेशे के चलते पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। अब सवाल ये उटता है कि युवक की चालानी रिर्पोट सच्ची है या डीएम बी.चन्द्रकला का बयान। सवाल ये भी उठता है कि जब डीएम बीचन्द्रकलां की युवक सेल्फी खींच रहा था तो फिर चालानी रिर्पोट में सच्ची बात क्यों नही लिखी गयी।

 

 

 

 

बुलन्दशहर की डीएम बी.चन्द्रकलां अक्सर सुर्खियों में रहती है, लेकिन इस बार बी.चन्द्रकलां के बयान की पोल आईपीसी की धारा 151 के तहत जेल भेजे गये युवक फराज पुत्र इमरान निवासी ग्राम कमालपुर की इस चालानी रिर्पोट ने खोल दी है जिसे बुलन्दशहर कोतवाली नगर पुलिस के एएसइआई राजेश कुमार ने 2 फरवरी 2016 को सीटी मजिस्ट्रेट की र्कोट में पेश किया था। दरअसल डीएम बी.चन्द्रकलां की सेल्फी लेने पर युवक को जेल भेजे जाने और प्रकरण को एक हिंदी अखबार द्वारा प्रमुखता से प्रकाशित किया था। डीएम का वर्जन जानने के लिए जब उस अखबार ने उन्हें फोन किया तो डीएम ने उसके के ब्यूरो चीफ से फोन पर जमकर अभद्र भाषा का प्रयोग किया था।

 

 

 

मामले ने इतना तूल पकड़ा कि पत्रकार के विरूद्ध कोतवाली नगर में रिर्पोट दर्ज करा दी गयी। यही नहीं कुछ लोगो ने उस अखबार कार्यालय के बाहर कूडा तक डाल दिया था, यही नहीं बुलन्दशहर में डीएम वर्सेस अखबार की जंग छिड़ गयी थी। चालानी रिर्पोट को यदि सही माना जाये तो फिर डीएम बी.चन्द्रकला ने आखिर झूठ क्यों बोला और यदि डीएम ने सही वाक्या बयान किया तो फिर सीटी मजिस्ट्रेट की र्कोट में आखिर बुलन्दशहर पुलिस ने ऐसे चालानी रिर्पोट पेश क्यों की। आखिर दोनो में कौन झूठा है और कौन सच्चा।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.