Header Ads

मुलायम सिंह यादव के घर के पास एटीएम वेंडर को गोली मार 45 लाख लूटे

2 दिन पूर्व

इटावा
समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव की सिविल लाइंस स्थित कोठी के पास बैंक ऑफ इंडिया के एटीएम वेंडर को गोली मारकर बदमाशों ने 45 लाख रुपये लूट लिए। वारदात गुरुवार शाम साढ़े 3 बजे की है।
कचहरी रोड स्थित बैंक से सिक्यॉरिटियन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड का सुपरवाइजर मनोज कुमार ड्राइवर शुभम के साथ बैंक से 3 एटीएम में पैसे डालने के लिए 45 लाख रुपये लेकर स्विफ्ट डिजायर कार से निकला।
उनके साथ कोई सिक्यॉरिटी गार्ड नहीं था। पैसे सिविल लाइन, नौरंगाबाद और रेल बाजार के एटीएम में डाले जाने थे। जैसे ही दोनों लोग सिविल लाइंस एटीएम के पास पहुंचे, पल्सर बाइक पर सवार दो बदमाशों ने मनोज को गोली मार दी और पैसे से भरा बैग लेकर फरार हो गए।
ड्राइवर शुभम ने बैंक और पुलिस को वारदात की सूचना दी और मनोज को लेकर डॉ भीमराव अंडकर संयुक्त चिकित्सालय ले जाया गया और इसके बाद उसे रिम्स सैफई रेफर कर दिया गया। वारदात की सूचना पर एसएसपी मंजिल सैनी मौके पर पहुंची। उन्होंने मुख्य प्रबंधक महेश डूंगरा से पूछताछ की। वहीं एएसपी क्राइम ब्रांच महात्मा प्रसाद और सीओ पवित्र मोहन पूरी टीम के साथ तफ्तीश में जुटे रहे।
पुलिस के मुताबिक एटीएम में पैसे डालने के लिए गाड़ी पहले से निर्धारित है। इस दौरान दो गार्ड्स का होना भी जरूरी है, लेकिन गुरुवार को न तो गाड़ी थी और न ही उनके साथ कोई गार्ड था। पैसे डालने जाने के दौरान स्थानीय पुलिस को भी सूचना देना जरूरी है लेकिन वह भी नहीं किया गया, जबकि बैंक से चंद कदम की दूरी पर सिविल लाइंस थाना है।
जिस सिविल लाइंस इलाके में बदमाशों ने दुस्साहस किया, वह शहर का सबसे पॉश इलाका है। इस इलाके में मुलायम सिंह यादव की कोठी के साथ ही डीएम, एसएसपी, जिला जज और अन्य अधिकारियों के सरकारी बंगले हैं। जिस कचहरी रोड पर लूट हुई है, उसपर कई और बैंक और एटीएम हैं।
बैंक ऑफ इंडिया का इस एजेंसी से नैशनल लेवल पर एटीएम में पैसे डालने का कॉन्ट्रैक्ट है। एफआईएस ने स्थानीय स्तर पर सिक्यॉरिटियन इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को पैसे डालने का जिम्मा सौंप रखा है। वारदात की सूचना पर एसएसपी मंजिल सैनी फोर्स के साथ मौके पर पहुंची और तफ्तीश शुरू की। उन्होंने बताया कि या तो बैंक से ही रेकी हुई है या कोई और है, जो रोज की गतिविधियों से वाकिफ है। फिलहाल पुलिस की टीमें जांच में जुटी हुई हैं।
सूत्र

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.