Header Ads

पठानकोट भुठभेड़ में चार आतंकीओ की भारतीयो सेनिको ने की जीवन लीला समाप्त

पठानकोट आतंकी हमला: '' मत रो मां, मैं पापा जैसा बनूंगा''

नई दिल्‍ली-
पिछले 32 घंटे से पठानकोट में आतंकवादियों से मुठभेड़ चल रही है इस मुठभेड़ में देश के सात जवान शहीद हो गए हैं। इस आतंकी हमले में किसी ने पिता खोया, किसी ने बेटा गंवाया, किसी की मांग का सिंदूर छिन गया तो किसी के बुढ़ापे का सहार चला गया। सात शहीदों में गुरदासपुर के रहने वाले कुलवंत सिंह भी जो पांच दिन पहले परिवार से मिलकर गए थे, लेकिन उनके मौत की खबर आई।

पठानकोट में हुए आंतकी हमले में शहीद होने वाले जवानो में से एक शहीद गुरदासपुर के रहने वाले गांव झंडा गुजरा के फ़तेह सिंह हैं जो पहले फ़ौज से रिटायर होने के बाद देश के लिए मर मिटने का जज्बा छोड़ नहीं पाए। डिफेन्स सिक्यूरिटी कॉर्प्स में देश की सेवा के लिये दुबारा आ गए। फतेह सिंह शूटिंग में भी चैंपियन थे। कॉमनवेल्थ गेम में देश का सिर ऊंचा कर चुके हैं लेकिन जब उनकी शहादत की खबर आई तो उनका पूरा गांव रो पड़ा।

पठानकोट एयर बेस पर हुए आतंकी हमले में अंबाला का एक जवान भी शहीद हो गया। महज 26 साल की उम्र में अंबाला के गरनाला के गुरसेवक कायर दहशतगर्दों से लोहा लेते हुए शहीद हो गए। शहीद गुरसेवक के गांव में आज मातम है। पूरा गांव रो रहा है तो पिता अपने बेटे की शहादत पर फख्र है। आज मुठभेड़ में एक कर्नल भी शहीद हो गए, जो आतंकी के शव में IED को डिफ्यूज़ कर रहे थे, लेकिन उसी वक्त धमाका हो गया। दरअसल आतंकी कई तरह के हथियारों से लैस हो कर आए थे। मारे गए आतंकियों के पास के मोर्टार और जीपीएस लोकेटर्स मिले हैं।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.