Header Ads

मिशन यूपी' के लिए इन दमदार चेहरों से सजेगी अमित शाह की टीम।

शामिल होंगे नए चेहर, कई का पत्ता होगा साफ
भाजपा अध्यक्ष पद पर अमित शाह की दूसरी पारी में संगठन में व्यापक बदलाव हो सकता है। शाह की यह टीम आगामी विधानसभा चुनाव और लोकसभा चुनाव 2019 को ध्यान में रखते हुए बनेगी। शाह की टीम में दमदार चेहरों को वजन मिलने की संभावना जताई जा रही है। जबकि कई चेहरों का टीम से पत्ता साफ होगा।

उत्तराखंड और राजस्थान सरीखे राज्यों का भी शाह की टीम में दबदबा दिखेगा। ये राज्य केंद्र सरकार में मजबूत प्रतिनिधित्व से महरूम हैं। सूत्रों के अनुसार टीम शाह में भारी फेरबदल की मार सबसे ज्यादा महासचिवों पर पडे़गी। पार्टी के वर्तमान 7 महासचिवों में से महज राम माधव और पी मुरलीधर राव सुरक्षित बताए जा रहे हैं।

माधव, सरकार और संगठन के बीच सेतु का काम कर रहे हैं तो राव के जिम्मे दक्षिण भारत में कमल खिलाने की कमान है। महासचिव के पद पर गुजरात के नवसारी से सांसद सीआर पाटिल, अर्जुन मुंडा, त्रिवेंद्र सिंह रावत, ओम माथुर, वरुण गांधी और श्रीकांत शर्मा के नाम प्रमुख रूप से चर्चा में है। साथ ही केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को भी संगठन में लाने की चर्चा है।

इन चेहरों को पार्टी भविष्य के चेहरे के रूप में आगे बढ़ाने की तैयारी में है। वहीं संगठन महामंत्री के पद पर राम लाल के बने रहने की संभावना है। उनका साथ दे रहे चारों सह संगठन महामंत्री भी बरकरार रह सकते हैं।

रखा जाएगा समीकरणों का ध्यान।

अगर बात करें पार्टी के 10 वर्तमान राष्ट्रीय उपाध्यक्षों की तो इसमें से पुरुषोत्तम रूपाला और बी एस येदयुरप्पा, प्रभात झा और रेणु देवी की कुर्सी खतरे में है। रूपाला स्वास्थ्य कारणों से सक्रिय नहीं हैं। तो संघ की सक्रिय राजनीति से सुरेश सोनी की दूरी भी उनके लिए परेशानी बढ़ा रही है।

बिहार परिणाम के वजह से रेणु का जाना तय माना जा रहा है। यहां से सुशील मोदी या मंगल पांडे को केंद्रीय संगठन में जगह मिल सकती है। मोदी को बिहार से राज्य सभा में लाने की भी चर्चा जोरों पर है। नए उपाध्यक्षों में उत्तराखंड चुनाव को ध्यान में रखते हुए रमेश पोखरियाल निशंक अथवा भगत सिंह कोश्यिारी को जगह मिल सकती है।

उत्तर प्रदेश, पंजाब, असम और तमिलनाडु के समीकरण को भी ध्यान में रखा जाएगा। वहीं संगठन में कुछ चेहरे ऐसे भी हैं जिन्हें सरकार में जगह मिल सकती है। ऐसे चेहरों में भूपेंद्र यादव प्रमुख हैं। यदि यादव सरकार में गए तो शाह का साथ देने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को संगठन में भेजा जा सकता है।

हिमाचल प्रदेश से भाजपा के दूसरे नेता अनुराग ठाकुर का भी संगठन में कद बढ़ना तय माना जा रहा है। तो उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे के भी संगठन से सरकार में जाने की चर्चा है। लेकिन उनके लिए परेशानी है कि वह संसद के सदस्य नहीं है। मंत्री लेने के बाद उन्हें राज्य सभा में भेजना पड़ेगा। गिरिराज सिंह सरीखे बड़बोले नेता को सरकार से हटाकर संगठन में दायित्व देने की भी चर्चा है।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.