Header Ads

पंचायत में सुनाया फरमान तो घर में घुस किया क़त्ल

पंचायत में किया था ऐलान, दिनदहाड़े घर में घुसकर भाईयों का कत्ल

बुलंदशहर-
सवा साल पहले काली मेले में हुई हत्या का बदला लेने के लिए चार-पांच हमलावरों ने सोमवार सुबह बुलंदशहर के कोतवाली देहात नई मंडी चौकी क्षेत्र के मोहल्ला टांडा स्थित एक घर में घुसकर दो भाइयों को गोलियों से भून डाला। हमलावरों ने मृतकों के पिता पर भी गोलियां बरसाईं। वहीं, फायरिंग की आवाज सुनकर जुटी भीड़ ने आरोपियों के घर में तोड़फोड़ कर आग लगा दी।

मामले में 11 के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। पुलिस ने दो महिलाओं समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि 3 अक्तूबर 2014 को कोतवाली देहात क्षेत्र के काली मेले में मोहल्ला टांडा निवासी ईश्वर की हत्या हुई थी। इसमें प्रेमदास पुत्र देशराज समेत सात लोग गिरफ्तार हुए थे। आठ माह पहले प्रेमदास और उसके बेटे रिंकू, रोहित समेत रोहित पुत्र हरी को जमानत मिल गई थी।

सोमवार सुबह करीब सात बजे हथियारों से लैस चार-पांच लोग प्रेमदास के घर में घुसे और गोलियां बरसाकर रिंकू और उसके भाई कमल की हत्या कर दी। हमलावरों ने प्रेमदास पर भी फायरिंग की। इसके बाद सभी हमलावर कार से भाग निकले। फायरिंग की आवाज पर पहुंचे आसपास के लोगों ने गुस्से में आरोपी के घर में तोड़फोड़ करके आग लगा दी। सूचना पर जब तक पुलिस पहुंचती, आग बुझा दी गई थी
मृतकों के पिता प्रेमदास पुत्र देशराज ने सुनील, बॉबी, गोलू, सचिन, हनीफ, साजिद उर्फ पीपी और नसरू के खिलाफ हत्या और अरुण उर्फ डीजल, शोभा, शशि और जेल में बंद सरन पर साजिश रचने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तीन नामजद आरोपियों नसरू, शोभा और शशि को गिरफ्तार कर लिया है।

हत्यारोपियों ने दस दिन पहले एक पंचायत में ही ऐलान कर दिया था कि वह बदला लेकर रहेंगे। मरने वाले पक्ष ने डीएम और एसएसपी से भी सुरक्षा गुहार लगाई थी। डीएम ने सुरक्षा देने को भी पुलिस को कहा था। अब पुलिस हत्यारोपियों पर एनएसए लगाने की बात कह रही है। मृतक के पिता प्रेमदास ने बताया कि उन्होंने डीएम-एसएसपी ने मिलकर जमानत के बाद अपने घर पर जाकर रहने के दौरान सुरक्षा की गुहार लगाई थी। बताया कि दोनों अफसरों ने थाना पुलिस को सुरक्षित वापसी के निर्देश भी दिए थे।

करीब 10 दिन पहले नई मंडी पुलिस चौकी में पंचायत हुई थी। इसमें आरोपी सरन ने कहा था कि 16 फरवरी को उसकी भतीजी की शादी है। तब तक वह उस घर में नहीं आए। घर वापसी पर उसने अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। वह जमानत के बाद एक बसपा नेता के यहां आसरा लिए थे।
एसपी सिटी राजेश कुमार ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी। एसपी सिटी राजेश कुमार ने बताया कि आरोपी सरन शराब बेचने के मामले में जमानत पर था। करीब 5 दिन पहले नगर कोतवाली क्षेत्र से जमानत तुड़वाकर जेल पहुंच गया। उसके ऊपर दर्ज मामलों को इकट्ठा किया जा रहा है।
माना जा रहा है कि हत्या की धमकी देने के बाद सरन ने हत्या कराने का प्लान तैयार कर लिया था, पुलिस मान रही है कि इसीलिए वह जमानत तुड़वाकर जेल गया है। ताकि वारदात के बाद उसका नाम नहीं आ सके। ईश्वर की हत्या में चार आरोपी प्रेमदास, रोहित, रिंकू और रोहित कुमार हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद रिहा हो गए थे।
जबकि तीन अन्य आरोपी सागर पुत्र सुंदर, चिंटू और मिंटू की जमानत अर्जी जिला एवं सत्र न्यायालय से खारिज हो गई थी। प्रेमदास ने बताया कि चिंटू और मिंटू की जमानत के लिए उसका बेटा मारा गया रिंकू सोमवार को इलाहाबाद जाता। इस संबंध में हाईकोर्ट के अधिवक्ता से भी बात हो गई थी। लेकिन आरोपियों ने उसकी हत्या कर दी।
मौके पर कुछ लोगों का कहना था कि हत्यारे खंडहर पड़े रिंकू के घर में पहले से छिपे बैठे थे। जैसे ही दोनों भाई उस घर में शौच के लिए गए तो उन्होंने दोनों पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर मौत के घाट उतार दिया। जबकि कुछ लोगों का कहना था कि आरोपी स्विफ्ट डिजायर कार में सवार होकर आए थे। कार सड़क पर खड़ी की और हमला करने पैदल ही आए। वारदात को अंजाम देकर उसी कार में बैठकर फरार हो गए।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.