Header Ads

पुलिस महानिदेशक उ0प्र0 द्वारा उ0प्र0 जनपदीय वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षकों को 10:00 बजे से 12:00 बजे के मध्य कार्यालय में बैठकर जनता की समस्याओं को सुनने के निर्देश.

लखनऊ-

पुलिस महानिदेशक, उत्तर प्रदेश ने प्रदेश के समस्त वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक, प्रभारी जनपदों को कार्यालय में नियमित रूप से प्रातः 10:00 बजे से 12:00 बजे के मध्य जनता से मिलने और उनकी समस्याओं को सुनने के निर्देश दिये गये हैं ।
         पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा प्रदेश द्वारा भेजे गये निर्देश में कहा गया है कि पुलिस अधीक्षक कार्यालय जिला मुख्यालय पर पुलिस की गतिविधियों का केन्द्र बिन्दु होता है, न केवल मिलने वाले आगन्तुकों एवं पीडि़तों अपितु पुलिस विभाग में कार्यरत अधिकारियों/कर्मचारियों के सेवा सम्बन्धी प्रकरणों, प्रशासनिक कार्यों, लेखा सम्बन्धी कार्यों एवं न्यायालय से सम्बन्धित कार्य जैसे विभिन्न महत्वपूर्ण कार्य भी पुलिस कार्यालय से ही सम्पादित एवं निस्तारित होते हैं।
   उनके संज्ञान में आया है कि उ0प्र0 में कई जनपद में नियुक्त वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक अपने जनपदीय पुलिस कार्यालय में जनसमस्याओं को सुनने तथा दैनिक कार्यों सम्बन्धी दायित्वों के निष्पादन हेतु कार्यालय में प्रायः नियमित रूप से उपस्थित ही नहीं होते हैं एवं मात्र कैम्प कार्यालय से ही कार्य संचालित करते हैं । यह कार्य संस्कृति पुलिस जैसे जनसेवा वाले एवं अनुशासित बल के लिए नितान्त अनुपयोगी है ।
     जनपदीय पुलिस अधीक्षक के अपने कार्यालय में नियमित रूप से कुछ समय के लिये न बैठने की बढ़ती हुई प्रवृत्ति के परिप्रेक्ष्य में उनके द्वारा यह निर्देश दिया जाना अपरिहार्य हो गया है कि सभी प्रातः 1000 बजे से 1200 बजे के मध्य जनता से मिलने, उनकी समस्याओं को सुनने एवं दैनिक शासकीय कार्यों को सम्पादित किये जाने हेतु पुलिस कार्यालय में उपस्थित रहना सुनिश्चित करेंगे। जनपद में कानून व्यवस्था सम्बन्धी अपरिहार्यताओं, अवकाश पर होने अथवा तहसील दिवस आदि के अवसर को छोड़कर यथासम्भव उक्त निर्धारित अवधि में पुलिस कार्यालयों में उपस्थित रहना सुनिश्चित करेंगे।
   पुलिस महानिदेशक द्वारा अपेक्षा की गयी है कि निर्देशों का कड़ाई से पालन किया जाये। निर्देशों के अनुपालन स्थिति की समीक्षा इस मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा एवं उनके द्वारा की जायेगी ।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.